हाथरस क्राइम – 15 दिनों पूर्व जिले में 22 वर्षीय युवती के साथ घटी घटना की परते खुलने के बाद जो कहानी सामने आयी उसने दिल्ली में निर्भया के साथ घटी घटना की दर्दनाक यादों को ताजा कर दिया, कुछ निर्भया की ही तर्ज पर हाथरस की घटना हेै जिसमें दरिन्दों ने पहले तो सामूहिक रूप् से युवती के साथ दुष्कर्म को अंजाम दिया फिर दरिंन्दगी की पराकाष्ठा पार करते हुए उसको जान से मारने के प्रयास मेें युवती की गरदन तोड डाली, इतना ही नही उसके जाने से मारने के प्रयास में युवती की जीभ भी कट गयी।

दिल्ली के सफदर जगं अस्पताल मे ंअपनी अंितम सांसे लेने से पहले युवती ने इशारो मे बताया कि पहले तो उसका हाथ पैर बांध कर बारी बारी से चारों दरिंदों ने उसके साथ दुष्कर्म किया, विरोध करने पर उसका गला दबाकर जान से मारने का प्रयास किया गया।

युवती की मेडिकल रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि विगत 14 सितम्बर को जब युवती को भर्ती कराया गया था तो उसकी गर्दन टूटी हुयी थी, जीभ कटी हुयी थी, वह ईशारों में ही अपनी बात किसी तरह बता पा रही थी, उसने संकेतों में जो बाते बतायी उसी आधार पर मामला दर्ज किया गया था।

पुलिस के अनुसार उसने घटना वाले दिन ही एक आरोपी संदीप को गिरफतार कर लिया था तथा कुछ ही दिन बाद बाकी के तीन आरोपी रामू, लवकुश और रवि को भी गिरफतार कर लिया।

मामलें में राजनीति ने भी अपनी संेध लगाते हुए योगी सरकार को आडे हाथों लेते हुए पुलिस पर घोर लापरवाही का आरोप लगाया है विभिन्न राजनैतिक दलों के लोगो ंन कई आरोप लगाये हें वही योगी आदित्यनाथ सरकार ने पीडित परिवार को त्वरित सहायता के लिए 10 लाख की सहायता राशि देने की घोषणा की है। जिसमे मंगलवार की रात 3 बजे पुलिस और गाँव वालों की तनातनी के बीच पुलिस ने पीड़िता का अन्तिम सँस्कार कर दिया , जिसमे लोगों का गुस्सा फूटा है