निर्भया मामला : दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट. पहले भी दो बार अदालत ने फांसी की तारीख़ तय की थी जो अलग-अलग याचिकाओं के कारण टल गई थी.

क्या था पूरा मामला?

16 दिसंबर 2012 की रात राजधानी दिल्ली में 23 साल की एक मेडिकल छात्रा के साथ छह पुरुषों ने एक चलती बस में गैंगरेप किया था.

एक  अपराधी, जो घटना के वक़्त नाबालिग़ साबित हुआ था, उसे सुधारगृह भेजा गया था.  साल 2015 में उसे सुधारगृह से रिहा कर दिया गया था. इसे अगस्त 2013 में तीन साल सुधारगृह में बिताने की सज़ा सुनाई गई थी.

चार दोषियों के अलावा एक प्रमुख अभियुक्त राम सिंह ने ट्रायल के दौरान ही तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी.